पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने आज आरक्षण मुद्दे को लेकर मीडिया से चर्चा की। उनके साथ प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी शोभा ओझा भी मौजूद थे। इस दौरान कांग्रेस ने भाजपा की तीखी आलोचना करते हुए कई आरोप लगाए।

राजीव शुक्ला ने सबसे पहले आरक्षण मुद्दे पर कहा कि आरक्षण पाने वाले अभी भी उतने सक्षम नहीं हो पाए हैं। लेकिन केंद्र सरकार इस पर बदलाव कर आरक्षण विरोधी रवैया अपना रही है। सरकार की नियत में खोट है। वहीं प्रमोशन में आरक्षण पर टिप्पणी करने से मना किया। उन्होंने कहा कि मामला अभी कोर्ट में होने के कारण कुछ बोलना उचित नहीं है।

राजीव शुक्ला ने आयोध्या में राम मंदिर बनने का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि राम मंदिर का फायदा कोई भी राजनीतिक दल ना उठाए। इसके बाद दिल्ली चुनाव पर राजीव शुक्ला ने कहा कि कांग्रेस का खाता ना खुलना यह दुर्भाग्य की बात है।

दिल्ली में अभी भी शिला दीक्षित के काम की चर्चा है, लेकिन वोट नहीं मिल पाया। इस पर विचार किया जाएगा। राजीव शुक्ला ने आगे कहा कि दिल्ली चुनाव में भाजपा का पुरजोर विरोध रहा, कई बढ़े नेताओं को प्रचार करने के बाद भी भाजपा नहीं जीत पाई। भाजपा के गढ़ों में अब उनकी हार हो रही है। वहीं दिल्ली हार का मंथन कर संगठन में मजबूती लाने की बात कही है।

मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने भी दिल्ली चुनाव में हार पर बीजेपी की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि भाजपा के भक्तों की टीम सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल करती है। वहीं शोभा ओझा ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गुप्त गठबंधन की अटकलों को सिरे से खारिज किया।

इस दौरान राहुल गांधी के डंडे मारने के बयान पर कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि राहुल जी का बोलना आम बोलचाल की भाषा। इनमें किसी को भी पॉइंट नहीं किया गया है। वहीं बीजेपी की एक बार और आलोचना करते हुए कहा कि ये लोग कांग्रेस की छवि बिगाड़ने में पीएचडी की है।

SHARE